मिथलांचल वासियो एवम अन्न मैथिल भाषियों के लिए बड़ी खुश खबरी

मिथिलांचल

पटना बिहार मिथिलांचल न्यूज़ :-सरकार के तरफ से मानव संसाधन विकास मंत्रालय के सूत्रों ने कहा कि मानव संसाधन विकास मंत्री प्रकाश जावड़ेकर मैथिली भाषा के विशेषज्ञों की जल्द ही एक बैठक बुला सकते हैं. बता दें कि बिहार के एक विशाल क्षेत्र और झारखंड के कुछ हिस्सों में मैथिली भाषा बोली जाती है.खासकर नॉर्थ बिहार में इसे खूब बोली जाती है. बिहार योजना परिषद के सदस्य और जनता दल यूनाइटेड के नेता संजय झा ने सोमवार को दिल्ली में जावड़ेकर से मुलाकात के बाद इस बात को लेकर आश्वस्त किया

झा ने कहा कि उन्होंने प्रकाश वावड़ेकर को एक समिति का गठन करने की अपील की और साथ ही मैथिली लिपि को संरक्षित करने और प्रचार करने के लिए जरूरी फंड उपलब्ध कराने का आग्रह किया. उन्होंने कहा कि केंद्र में जब अटल बिहारी वाजपेयी के नेतृत्व में पहली एनडीए की सरकार बनी थी उसी दौरान मैथिली भाषा को 8वीं अनुसूची में स्थान मिला था, अब केंद्र में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में दोबारा एनडीए की सरकार है तो मैथिली लिपि से प्रचार-प्रसार के लिए सरकार मजबूत कदम उठाएगी. बताते चले आठवीं अनुसूची में शामिल भाषा को आधिकारिक तौर पर यूपीएससी के उम्मीदवारों को परीक्षा के विषयों में वैकल्पिक भाषा चुनने का अधिकार है। उसमे से एक मैथली भी हैं।

उन्होंने कहा कि बैठक में मानव संसाधन मंत्री ने उनकी मांगों पर सहमति जता दी है और कहा कि इस संबंध में जो भी मदद होगी, वह की जाएगी. खासकर
क्या हैं 8वीं अनुसूची :
इसमें भारतीय संविधान द्वारा मान्यता प्राप्त 22 भाषाओं का उल्लेख किया गया है| मूल संविधान में 14 मान्यता प्राप्त भाषाए थी|
सन 2004 में चार नई भाषाए मैथली, संथाली, डोगरी और बोडो को इसमें शामिल किया गया|

आशीष श्रीवास्तव