18 साल बाद रणजी समेत सभी घरेलू क्रिकेट टूर्नामेंट में हिस्सा ले सकेगा बिहार

BIHAR

बिहार के क्रिकेट टीम 18 साल बाद रणजी ट्रॉफी समेत सभी घरेलू टूर्नामेंट में हिस्सा ले सकेगी बिहार क्रिकेट प्रेमियों और क्रिकेटरों के लिए बड़ी खुशखबरी है. क्योंकि 18 साल बाद यह पहला मौका होगा जब बिहार की क्रिकेट टीम रणजी ट्रॉफी खेलेगी इसका रास्ता सुप्रीम कोर्ट ने मंगलवार को साफ कर दिया है.

इस सत्र 2018 से 2019 में रणजी ट्रॉफी की शुरुआत 6 अक्टूबर से होनी है जिसमें बिहार भी खेलेगा. बिहार रणजी ट्रॉफी खेलेगा ही दूसरे घरेलू विजय हजारे सहित दूसरे टूर्नामेंटों में भी हिस्सा ले सकेगा.

आपको बताते चलें कि सुप्रीम कोर्ट ने 4 जनवरी को बिहार को रणजी ट्रॉफी सहित सभी बड़े टूर्नामेंट में खेलने का आदेश दिया था .

इसके बावजूद विजय हजारे ट्रॉफी में बिहार का नाम नहीं था .सुप्रीम कोर्ट के इस फैसले की अवहेलना का हवाला देते हुए बिहार क्रिकेट एसोसिएशन के सचिव आदित्य वर्मा ने अबमानना याचिका दायर की थी. जिस पर सुनवाई करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने मंगलवार को बिहार के हक में फैसला सुनाया था.

बीसीसीआई के महाप्रबंधक सबा करीम ने सुप्रीम कोर्ट के 4 जनवरी के आदेश को की कॉपी बोर्ड के तकनीकी समिति के चेयरमैन सौरव गांगुली को उपलब्ध कराई थी. इसके बाद सौरव गांगुली ने बिहार की टीम को रणजी ट्रॉफी खेलने का प्रस्ताव दिया है.