38 वर्ष के इतिहास में पहली बार राज्यसभा की सबसे बड़ी पार्टी बनी भाजपा, कांग्रेस को पछाड़ा

ELECTIONS

पटना बिहार मिथिलांचल न्यूज़ :-भारतीय जनता पार्टी पार्टी के 38 वर्ष के इतिहास में पहली बार राज्यसभा की सबसे बड़ी पार्टी बन कर उभरी है. भाजपा के सदस्यों की संख्या पहली बार 69 तक पहुंच सकी है फिर भी भाजपा उच्च स्तरीय सदन के बहुमत के आंकड़े से बहुत पीछे खड़ी है.

आपको बताते चलें कि राज्यसभा में सदस्यों की कुल संख्या 245 है और बहुमत के लिए किसी भी पार्टी को 120 सांसदों का सहयोग की जरूरत पड़ती है. इस लिहाज से देखा जाए तो बीजेपी बहुमत के आंकड़े से बहुत पीछे दिख रही है.

सदन में बहुमत के लिए 126 का आंकड़ा चाहिए। मुख्य विपक्षी पार्टी कांग्रेस के कुल सदस्य 50 हो जाएंगे। शुक्रवार को हुए 10 सभा के चुनाव में बीजेपी ने सर्वाधिक 12 सीटों पर विजय प्राप्त की है वहीं कांग्रेस को मात्र 5 सीटों पर जीत मिल सकती है.

कांग्रेस को पांच, तृणमूल कांग्रेस को चार, जदयू (शरद गुट) को एक और तेलंगाना राष्ट्र समिति को तीन सीटें मिलीं। गौरतलब है कि इस वर्ष 17 राज्यों से राज्यसभा की 59 सीटें रिक्त हुई थीं। इनमें से 10 राज्यों में 33 प्रत्याशी पहले ही निर्विरोध निर्वाचित हो चुके हैं। इनमें भाजपा के 16 थे। इस प्रकार कुल 59 रिक्त सीटों में से भाजपा को 28 मिलीं। कांग्रेस को दस, बीजद को तीन, तेदेपा, राजद और जदयू को दो-दो और वाइएसआर कांग्रेस, राकांपा एवं शिवसेना को एक-एक सीट हासिल हुई।

झारखंड के 2 सीटों पर हुए चुनाव में मुकाबला ड्रा रहा और दोनों मुख्य पार्टी को एक-एक सीट पर सफलता मिली. छत्तीसगढ़ के 1 राज्यसभा सीट पर BJP को सफलता हाथ लगी. वहीं पश्चिम बंगाल मैं 5 राज्यसभा सीटों पर हुए चुनाव में 4 सीट तृणमूल कांग्रेस के खाते में गई. वही महाराष्ट्र के 5 सीटों पर हुए राज्यसभा चुनाव में बीजेपी के खाते में 2 सीटें गई वही शिवसेना 1 सीट जीतने में सफल हो सकी.