चीन के साथ तनाव के बीच भारतीय नौसेना ने विश्व की सबसे सुरक्षित पनडुब्बी आईएनएस कालवारी शामिल करने का निर्णय लिया

NEWS

नई दिल्ली: देश की समुद्री सुरक्षा को बढ़ावा देने के लिए, भारतीय नौसेना ने कहा है कि चीन के साथ बढ़ते तनाव के बीच आने वाली इस महीने के अंत में भारतीय नौसेना को दुनिया के सबसे घातक युद्ध पनडुब्बी , आईएनएस कालेवरी के अपने बेड़े में शामिल करने के लिए तैयार किया गया है।

ब्लूमबर्ग की रिपोर्ट के मुताबिक पनडुब्बी की तैनाती भारत के लिए समुन्द्र मे “मील का पत्थर” साबित होगी। जिस से भारतीय नौसेना को पानी के नीचे की लड़ाई के लिए लाभकारी साबित होगा ।

आईएनएस कालवारी, एक स्कॉर्पीन वर्ग के पनडुब्बी है और इसका नाम गहरे समुद्र के बाघ शार्क के नाम पर रखा गया है, इस के तैनाती से नौसेना के पानी के नीचे लड़ाई की दक्षता में काफी वृद्धि करने की उम्मीद है।

नौसेना ने इस तरह के छह पनडुब्बियों का पहला आदेश दिया है। वर्तमान में, चीन में 60 की तुलना में इसकी बेड़े में सिर्फ 15 पनडुब्बियां हैं

सरकार ने 256 अरब रुपए की लागत से 2005 में छः फ्रेंच निर्मित स्कॉर्पीन पनडुब्बियों के लिए आदेश दिए थे।

फ्रांस की नौसेना ग्रुप के सहयोग से राज्य के स्वामित्व वाली रक्षा शिपयार्ड माज़गॉन डॉक शिपबिल्टर्स लिमिटेड द्वारा पनडुब्बियां बनाई जा रही हैं।

रिपोर्ट के अनुसार, सरकार ने छह और डीजल पनडुब्बियों का निर्माण करने के लिए एक कार्यक्रम भी शुरू किया है। इसी दौरान, जर्मनी, फ्रांस और रूस में छह अलग-अलग निर्माताओं के बीच सूचना भेजा गया है।

यह परियोजना कथित रूप से करीब 500 अरब रुपये का है।