वर्ल्ड थियेटर डे के मौके पर कालीदास रंगालय में माइम शैली द्वारा की गई नाट्य प्रस्तुति !

बिहार आर्ट थियेटर पटना और मॉडर्न माइम सेंटर कलकत्ता द्वारा माइम शो ” ” ब्लैक एंड व्हाइट ” की प्रस्तुति की गई ! माइम मुक अभिनय शैली है जिसमें बिना कुछ बोले बिना किसी वस्तु की सहायता के सारे अभिनय किये जाते हैं और इस तरह किये जाते हैं कि दर्शक सब कुछ समझ जाएं …read more →

Continue Reading

जानिए कैसे पता करें घरेलू गैस सिलेंडर की एक्सपायरी डेट….

हम हमेशा से कुछ भी खरीदने से पहले उसकी एक्सपायरी डेट देखना नहीं बोलते हैं अगर घर में रखी कोई खाने की चीज या कोई दवाई एक्सपायरी डेट को पार करती है तो उस को घर से बाहर फेंक देते हैं. लेकिन इस जमाने में भी बहुत से लोगों खासकर महिलाओं को घरों में यूज …read more →

Continue Reading

कालीदास रंगालय में रंगम पटना के सौजन्य से सआदत हसन मंटू के लिखित नाटक का मंचन किया गया !

” अकेली ” नामक इस नाटक का केंद्र सुशीला है ! सुशीला मोहन के साथ घर से भाग कर रेलवे स्टेशन पहुँचती है , मोहन सुशीला के सारे गहने लेकर उसे प्लेटफॉर्म पर अकेली छोड़ कर भाग जाता है , वहाँ एक अमीर शख़्स किशोर से उसकी मुलाकात होती है , किशोर उसे सहारा देता …read more →

Continue Reading

गोंड पेंटिंग की बढ़ती लोकप्रियता

पटना बिहार मिथिलांचल न्यूज़ :-कहते हैं होनहार बिरवान के होत चिकने पात आज एक ऐसे ही शख्स की कहानी जिन्होंने आज इस कहावत को अपने मेहनत लगन और सब्र के बुते पर जीवंत रूप दिया हैं। मध्यप्रदेश के आदिवासी भज्जू श्याम की, जिन्हें गोंड कलाकृति के लिए राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने मंगलवार को पद्मश्री से …read more →

Continue Reading

कालीदास रंगालय में सादत हुसैन उर्फ मंटू के लिखित नाटक का मंचन किया गया !

” अकेली ” नामक इस नाटक का केंद्र सुशीला थी जो पैरों में घुंघरू बाँध कर सच्चे प्यार को पाने की आशा रखती है !एक नाचने वाली को सच्चे प्यार की कामना नहीं करनी चाहिए ये उससे काम लेने वाले साथी किशोर का मानना है, जो कहता है कि ” प्यार आख़िर होता क्या है …read more →

Continue Reading

सस्ती लोकप्रियता

patna Bihar [mithilanchalnews.in]:-दौर नया, वक़्त नया है , तरीका बदल रहा है हमारे जीने का, रहने का, इस तेज़ी से बदलते वक्त के साथ जो एक औऱ चीज़ जो बेहद तेजी से बदल रही है, वो हैं लोकप्रियता पाने का तरीका सोशल मीडिया पर उसके तरीके कई सारे हैं पर उसमें आज के समय मे …read more →

Continue Reading

भारतीय कला की मोनालिसा कही जाने वाली मूर्ति है पटना सिटी की.. आइए जानते है..

(उधव कृष्ण/डेस्क): क्या आप जानते है… मौर्य कालीन है यक्षिणी की मूर्ति… पटनासिटी के दीदारगंज गंगा घाट के किनारे से मिली थी ये मूर्ति… धोबन के कारण हाथ लगी ये दुर्लभ मूर्ति.. वाक्या 20 अक्टूबर 1917 की है जब एक धोबन गंगा किनारे अपने कपड़ो को धोने पहुँची थी उसी वक्त उसे एक साँप दिखा …read more →

Continue Reading

क्या आप जानते हैं, कहां है ये विभाग, पढ़ें पूरी ख़बर!

सन् २०१७ में पटना विश्व विधालय ने अपनी स्थापना के १०० वर्ष पूरे किए ! इस उपलक्ष में प्रधानमंत्री आए , तरह-तरह के वादे हुए , दिन बीता और सब कुछ भूली-बिसरी बात हो गई ! भूली-बिसरी कहना ही उचित है क्योंकि इस विश्व विधालय के समीप ही दरभंगा हाउस कही जाने वाली एक जगह …read more →

Continue Reading